राजनीति

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी से मिली यह लड़की, पहले हंसी और फिर फूट-फूट कर रोने लगी

राजनीतिक बातों को दरकिनार करके जरा सोचिए अगर अपना कोई सबसे फेवरेट इंसान अचानक आपके सामने आ जाए तो आपका रिएक्शन कैसा होगा। बचपन में हम सभी के साथ ऐसी हुआ होगा कि टीवी-अखबारों या फिल्मों में दिखने वाली हस्तियों में से किसी एक को बहुत पसंद करने लगते है और उनसे एक बार मुलाकात हो ऐसी भी ख्वाहिशें दिल में पाल लेते हैं। 90 प्रतिशत से ज्यादा के लोगों की ख्वाहिशें धरी की धरी रह जाती हैं लेकिन कुछ लोग होते हैं उनकी पूरी भी होती हैं। एक ऐसी ही लड़की का वीडियो सामने आया है जिसे रहा चलते हुए उसका फेवरेट इंसान टकरा गया और वो लड़की  खुशी से होने लग गयी। जी हां एक राजनेता होने के साथ-साथ राहुल गांधी की भारत में काफी बड़ी फैन फोलॉइंग हैं। वह अपनी कांग्रेस पार्टी की खोई हुई पॉजिशन वापस पाने के लिए और लोगों के दिलों में जगह बनाने के लिए पूरे देश में भारत जोड़ों यात्रा कर रहे हैं। इस समय वह अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में हैं। इस दौरान वह सड़क पर अपने कार्यकर्ताओं के साथ लोगों से मिल रहे है यात्रा कर रहे है। राह चलते हुए उन्होंने एक स्कूल की लड़की को रास्ते में अपने पास बुलाया। लड़की राहुल गांधी से मिलकर इतना खुश हुई मानों उसके सपने पूरे हो गये हो। बच्ची इतना खुश थी कि उसने हंसते हंसते रोने लगी। स्कूल की बच्ची का राहुल गांधी से साथ यात्रा के दौरान मिलने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं।राहुल गांधी से मिलने पर लड़की अपने आंसुओं को नियंत्रित नहीं कर पाई। वह खुशी से उछल पड़ी, हँसी और एक ही समय में रोई। उसकी उत्तेजना की कोई सीमा नहीं थी। इस तरह की प्रतिक्रियाएं आम तौर पर अभिनेताओं या पॉप सितारों से मिलने के दौरान फैंस की होती है, लेकिन इस बार यह एक राजनेता कांग्रेस नेता राहुल गांधी के लिए देखी गयी। जो भारत जोड़ी यात्रा का नेतृत्व कर रहे हैं। जैसे ही दूसरों ने देखा और उसके उत्साह पर मुस्कुराए, राहुल गांधी ने उसे गले लगाया, उसे शांत करने की कोशिश की और उसे कुछ दिया।कांग्रेस की भारत जोड़ी यात्रा के 18वें दिन की शुरुआत बुधवार को केरल में राहुल गांधी के साथ सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ताओं और अनुयायियों के साथ हुई। मार्च यहां पांडिकड स्कूल पड़ी से शुरू हुआ और सुबह करीब साढ़े दस बजे वंडूर जंक्शन पर रुकने वाला है। वह इस समय वायनाड निर्वाचन क्षेत्र में है।  3,570 किमी और 150 दिन लंबा पैदल मार्च 7 सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुआ और जम्मू-कश्मीर में समाप्त होगा। 10 सितंबर को केरल में प्रवेश करने वाली यह यात्रा राज्य में 450 किलोमीटर की दूरी तय करेगी और 1 अक्टूबर को कर्नाटक में प्रवेश करने से पहले सात जिलों को छूएगी।

Related posts

Gyanvapi पर फैसले के बाद महबूबा मुफ्ती का विवादित बयान

GIL TV News

बिहार में भी अब CBI की No Entry, क्या है केंद्रीय एजेंसी को दी गई

GIL TV News

योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य के तेवर तल्ख

GIL TV News

Leave a Comment