राजनीति

बिहार में भाजपा ने नहीं की नीतीश कुमार को मनाने की कोशिश

बिहार में एक बार फिर से राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रहे हैं। उन्होंने भाजपा गठबंधन से अलग होने का मंगलवार को फैसला किया था। हालांकि, पिछले कई दिनों से नीतीश कुमार को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे। दावा किया जा रहा था कि नीतीश कुमार भाजपा से नाराज चल रहे हैं। 2013 में भी नीतीश कुमार भाजपा से नाता तोड़ चुके थे। लेकिन उस बार की परिस्थिति और आज की परिस्थिति में अंतर है। उस समय नीतीश कुमार ने इस्तीफा देने की बजाय भाजपा कोटे के सभी मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया था। लेकिन इस बार नीतीश कुमार ने खुद ही इस्तीफा दिया है। भाजपा को पिछले कई दिनों से इस बात का अहसास था कि नीतीश कुमार के मन में कुछ ना कुछ चल रहा है। लेकिन पार्टी की ओर से उन्हें ज्यादा मनाने की कोशिश नहीं की गई।सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक भाजपा को इस बात की जानकारी बहुत पहले से थी कि नीतीश कुमार उन्हें छोड़ने वाले हैं। लेकिन सवाल यह है कि इतनी सटीक जानकारी के बावजूद भी बीजेपी नेताओं की ओर से नीतीश कुमार को मनाने की कोशिश क्यों नहीं की थी? दरअसल, भाजपा नेताओं को इस बात का आभास हो गया था कि नीतीश कुमार अब राष्ट्रीय राजनीति में अपनी भूमिका को तलाशने की तैयारी कर रहे हैं। उनके मन में प्रधानमंत्री पद की महत्वाकांक्षा है। यह ऐसा तर्क था जिस पर भाजपा नीतीश कुमार से किसी तरीके का बात नहीं करना चाहती थी। हालांकि, खबर यह भी आई कि पार्टी के किसी बड़े नेता ने नीतीश कुमार से बात की थी। लेकिन तुरंत भाजपा की ओर से इसका खंठन कर दिया गया। भाजपा यह मान रही है कि नीतीश कुमार की लोकप्रियता बिहार में बहुत कम हो गई है । भाजपा को लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ही बदौलत एनडीए को बिहार में 2020 में जीत मिली थी। बिहार में 2020 चुनाव के दौरान कई जगह नीतीश कुमार के खिलाफ प्रदर्शन भी हुए थे। बीजेपी को इस बात का आभास है कि उसकी पार्टी की पकड़ बिहार में मजबूत हुई है। जबकि नीतीश कुमार की मतदाताओं के बीच लोकप्रियता काफी कम है। साफ तौर पर भाजपा का मानना है कि नीतीश कुमार ने अपनी महत्वाकांक्षाओं स्वार्थ और जिद के कारण बिहार के हितों को नुकसान पहुंचाया है। यही कारण है कि आप भाजपा की ओर से नीतीश कुमार के खिलाफ जबरदस्त तरीके से बिहार भर में अभियान चलाया जाएगा। भाजपा नेताओं की ओर से इस तरीके के बयान सामने आ रहे हैं। उससे साफ तौर पर जाहिर हो रहा है कि पार्टी अब नीतीश कुमार के खिलाफ जबरदस्त तरीके से आक्रमक रहेगी और एक रणनीति के तहत आगे बढ़ेगी नीतीश कुमार के धोखे को भाजपा बिहार के जनता के समक्ष रखने की तैयारी में है।

Related posts

राजस्थान विस उपचुनाव : शुरुआती रूझान में कांग्रेस दो, भाजपा एक सीट पर आगे

GIL TV News

भारतीय कूटनीति से चित हुआ पाक और चीन

GIL TV News

मुख्यमंत्री योगी के शिक्षा सलाहकार बने यूजीसी के पूर्व चेयरमैन प्रो धीरेन्द्र पाल सिंह

GIL TV News

Leave a Comment