राजनीति

विधानसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू होते ही हंगामा

विधानमंडल के मानसून सत्र का आज दूसरा दिन है। विधानसभा की कार्यवाही फिर से शुरू होते ही विपक्ष के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया है। विधानसभा में बजट सत्र के दौरान 23 मार्च को विधायकों के साथ मारपीट मामले को लेकर हंगामा हो रहा है। इससे पहले विपक्ष के सदस्यों ने कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा किया था। वेल के पास पहुंच कर नारेबाजी करने लगे थे। इसके बाद दोपहर 2 बजे तक के लिए अध्यक्ष विजय सिन्हा ने कार्यवाही को स्थगित कर दी थी। उधर, परिषद में कांग्रेस एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा के सवाल का जवाब देते हुए मंगल पांडेय ने कहा कि राज्य में किसी भी कोरोना वायरस संक्रमित मरीज की मौत ऑक्सीजन और उपकरणों की कमी की वजह से नहीं हुई।विधान परिषद की कार्यवाही 2:30 तक के लिए स्थगित कर दी गई है। इससे पहले MLC रामबचन राय ने भोजपुर के दो लोगों की मौत का मामला उठाया। दोनों की मौत की वजह कोरोना थी। लेकिन, हार्ट अटैक बताया गया। मुआवजे के लिए परिजन भटक रहे हैं। जवाब में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि डायरेक्टर इन चीफ की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी इस पूरे मामले की जांच करेगी और पीड़ितों को न्याय दिलाएगी। परिषद में कोरोना की दूसरी लहर में हुई मौतों को लेकर राजद ने कार्य स्थगन प्रस्ताव भी लाया था। लेकिन, सभापति अवधेश नारायण सिंह ने इसे खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि सदन में इस पर चर्चा हुई तो बिहार की बदनामी होगी।नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विधानसभा में सरकार से पूछा कि विधायकों के साथ 23 मार्च को मारपीट हुई थी। इस मामले में सिर्फ 2 सिपाही को क्यों निलंबित किया गया। कल तो कोई पुलिस वाला विधायक को गोली मार देगा और उसे सिर्फ निलंबित किया जाएगा। 23 मार्च की घटना पर सदन में बहस होनी चाहिए। इससे सदन में लगे दाग को हटाया जा सकता है। इस पर जवाब देते हुए संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि सदन में जो कुछ हुआ उस पर विधानसभा अध्यक्ष को निर्णय लेना है। इस मामले में सरकार कहीं नहीं है।

Related posts

मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में गृह मंत्री बोले, लॉकडाउन भंग करने वालों पर करें कार्रवाई

GIL TV News

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुलाई मंत्रिमंडल की बैठक

GIL TV News

PM मोदी-राजनाथ समेत इन नेताओं ने दी शुभकामनाएं

GIL TV News

Leave a Comment