दिल्ली / एनसीआर

दिल्ली-NCR को मिल सकती है प्रदूषण से निजात

दिल्ली / एनसीआर (GIl TV) पराली जलाने से दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण की समस्या गंभीर रूप धारण कर चुकी है। वैज्ञानिक पराली के प्रबंधन को लेकर कई उपाय कर रहे हैं। इसी सिलसिले में सीएसआईआर की भोपाल स्थित प्रयोगशाला ने पराली से प्लाई और लकड़ी तैयार करने की तकनीक विकसित की है। उसने इसे उद्योग जगत को हस्तांतरित कर दिया है।एडवांस्ड मैटिरयल्स एंड प्रोसेसेज रिसर्च इंस्टीट्यूट (एएमपीआरआई) के वैज्ञानिकों ने पराली, औद्योगिक अपशिष्ट जैसे फ्लाई ऐश और मार्बल के कचरे तथा फाइबर का प्रयोग करते हुए हाईब्रिड प्लाई और कंपोजिट वुड विकसित की है। यह लकड़ी बेहद मजबूत है तथा आम लकड़ी की तुलना में ज्यादा प्रभावी होती है। इसमें आग लगने का खतरा भी न के बराबर होता है।वैज्ञानिकों का यह शोध दो कारणों से बेहद अहम है। एक यह पराली, फ्लाई ऐश तथा मार्बल के कचरे का समाधान करता है। दूसरे, लकड़ी के विकल्प के रूप में पेड़ों को काटने से भी रोकता है। पर्यावरण एवं वन मंत्रालय द्वारा तैयार की गई राष्ट्रीय वन नीति में स्पष्ट कहा गया है कि वैज्ञानिक भवन निर्माण के लिए लकड़ी का विकल्प खोजेंगे, जिससे वनों का कटान कम हो। इस प्रक्रिया से लकड़ी के निर्माण में 60 फीसदी तक कृषि एवं औद्योगिक कचरा मिलाया जाता है, जबकि बाकी 40 फीसदी फाइबर मिलाया जाता है।

Related posts

NCDC रिपोर्ट में दिल्ली को हर दिन 15 हजार नए कोविड मामलों के लिए तैयार रहने को कहा गया

GIL TV News

NEP के तहत विश्वविद्यालय 300 से अधिक कॉलेजों को मान्यता नहीं दे पायेंगे: निशंक

GIL TV News

मोदी 2.0 का बजट 2020 पेश

GIL TV News

Leave a Comment