Spiritual/धर्म

अच्छे कर्म के अलावा धार्मिकता और ईश्वर भक्ति होना भी जरूरी

मनुष्य के अच्छे और बुरे भाव के कारण मृतात्माओं को भी अच्छा और बुरा माना गया है। जहां अच्छी मृतात्माओं का वास होता है, उसे पितृलोक तथा बुरी आत्मा का वास होता है उसे प्रेतलोक आदि कहते हैं।

अच्छे और बुरे स्वभाव की आत्माएं ऐसे लोगों को तलाश करती है जो उनकी वासनाओं की पूर्ति कर सकता है। बुरी आत्माएं उन लोगों को तलाश करती हैं जो कुकर्मी, अधर्मी, वासनामय जीवन जीने वाले लोग हैं। फिर वह आत्माएं उन लोगों के गुण-कर्म, स्वभाव के अनुसार अपनी इच्छाओं की पूर्ति करती है।पंडित नीरज शास्त्री के अनुसार जिस मानसिकता, प्रवृत्ति, कुकर्म, सत्कर्मों आदि के लोग होते हैं उसी के अनुरूप आत्मा उनमें प्रवेश करती है। अधिकांशत: लोगों को इसका पता नहीं चल पाता। अच्छी आत्माएं अच्छे कर्म करने वालों के माध्यम से तृप्त होकर उसे भी तृप्त करती है और बुरी आत्माएं बुरे कर्म वालों के माध्यम से तृप्त होकर उसे बुराई के लिए और प्रेरित करती हैं। इसीलिए धर्म अनुसार अच्छे कर्म के अलावा धार्मिकता और ईश्वर भक्ति होना जरूरी है तभी आप दोनों ही प्रकार की आत्मा से बचे रहेंगे।धर्म के नियम अनुसार जो लोग तिथि और पवित्रता को नहीं मानते हैं, जो ईश्वर, देवता और गुरु का अपमान करते हैं और जो पाप कर्म करते समय कुछ न सोचें, हमेशा अपने बारे में ही सोचने वाले आदि लोग आसानी से भूतों के चंगुल में आ सकते हैं।इनमें से कुछ लोगों को पता ही नहीं चल पाता है कि उनपर शासन करने वाला कोई भूत है। जिन लोगों की मानसिक शक्ति बहुत कमजोर होती है उन पर ये भूत सीधे-सीधे शासन करते हैं। जो लोग रात्रि के कर्म और अनुष्ठान करते हैं और जो निशाचारी हैं, वह आसानी से भूतों के शिकार बन जाते हैं। हिन्दू धर्म अनुसार किसी भी प्रकार का धार्मिक और मांगलिक कार्य रात्रि में नहीं किया जाता। रात्रि के कर्म करने वाले भूत, पिशाच, राक्षस और प्रेतयोनि के होते हैं।

शास्त्री जी के अनुसार अगर बहुत जरूरी है रात में जागना, या कुछ कार्य करना क्योंकि ऐसे बहुत से लोग जिनकी  नौकरी रात की है। उनका रात में जागना, कार्य करना मजबूरी है। ऐसे लोगों को हनुमान चालीसा, गायत्री मंत्री आदि का जाप करते रहना चाहिए।

Related posts

5 मार्च से वासंतिक नवरात्र की शुरुआत

GIL TV News

इस तारीख को है देवउठनी एकादशी

GIL TV News

यह ग्रह दिलाता है सरकारी नौकरी

GIL TV News

Leave a Comment