business

असामान्य वर्षा ने बिगाड़ा घर का बजट, कब तक मिलेगी महंगाई से राहत? कितने अच्छे होंगे आने वाले दिन

भारत एक कृषि प्रधान देश है और राष्ट्र की अर्थव्यवस्था भी खेती-किसानी पर टिकी हुई है। ऐसे में मौसम और खेती करने के तरीके का असर सीधे देश में होने वाली महंगाई पर पड़ता है। मौसम में हो रहे उतार-चढ़ाव के चलते देश में खाद्य पदार्थों की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं।
भारत के कई राज्यों में बारिश की वजह से फसलें खराब हुई हैं। वहीं, दूसरी ओर मानसून में हुई देरी के चलते खरीफ फसलों को भी नुकसान हो सकता है। अपने इस लेख में हम बात करने वाले हैं कि देश में असमान्य वर्षा की वजह से किस तरह बजट बिगड़ सकता है और ये भी जानेंगे कि लोगों को कब तक महंगाई से राहत मिल सकती है।

बारिश ने बिगाड़ा खेल
खेती-किसानी में बारिश का बहुत बड़ा योगदान है। अगर समय पर वर्षा हो जाती है, तो फसल अच्छी होती हैं। वहीं, इससे उलट होने पर किसानों की मेहनत बर्बाद होने के साथ उनके घर का बजट भी बिगड़ जाता है। आईएमडी से जुड़े मौसम वैज्ञानिक एनके आचार्य के मुताबिक 12 जुलाई तक पूर्वी और उत्तर-पूर्वी राज्यों में बारिश औसत से 19 फीसदी कम थी। वहीं देश के दक्षिणी राज्यों में ये 23 फीसद कम रिकॉर्ड की गई।
वहीं, दूसरी ओर उत्तर-पश्चिमी राज्यों में बारिश औसत से 59 फीसदी ज्यादा रही, जिसकी वजह से खरीफ फसलों पर ज्यादा संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसके चलते किसान नई फसल की बुआई में भी देरी कर रहे हैं और ये पिछले साल के मुकाबले 9 प्रतिशत से भी ज्यादा घट गया है। जरूरत से ज्यादा बारिश की वजह से धान की खेती को भी नुकसान हुआ है और प्रभावित राज्यों में पंजाब, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, यूपी और आंध्र प्रदेश को नुकसान हुआ है।

कब तक रहेगी महंगाई
हाल के दिनों में टमाटर के दाम आसमान छू गए हैं और ये अभी तक कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। स्थिति ये हो गई है कि कुछ परिवारों ने तो इसे अपने खाने में इस्तेमाल करना ही बंद कर दिया है। जानकारों का कहना है कि बारिश की वजह से सब्जियों के दाम अभी बढ़े रहेंगे और इसके साथ दालों व अनााज में भी महंगाई देखी जा सकती है।
उम्मीद है कि सरकार समय आने पर टमाटर की तरह इनकी कीमतों को भी कंट्रोल करने के लिए कुछ न कुछ कदम उठा सकती है। आपको बता दें कि सरकार ने हाल ही में गैर बासमाती सफेद चवाल के निर्यात पर भी बैन लगा दिया है। इसकी वजह से देश में चावल की कीमतों को नियंत्रित किया जा सकेगा।

Related posts

लोकेशन ट्रैकिंग विवाद में जुर्माने का भुगतान करेगा Google, 39.9 मिलियन डॉलर की देनी होगी पेनल्टी

GIL TV News

चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की तेज रहेगी रफ्तार, 6.4 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान

GIL TV News

अडानी की हरित ऊर्जा परियोजनाओं में 30 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी फ्रांस की टोटल

GIL TV News

Leave a Comment