राजनीति

मणिपुर की घटना के आड़ में BJP के मीडिया पैनलिस्ट विनोद शर्मा का इस्तीफा, बोले-भाजपा में काम कर हूं शर्मिंदा

मणिपुर हिंसा को लेकर देश में सियासी बवाल मचा हुआ है। संसद से लेकर सियासी गलियारों तक यह मुद्दा सुर्खियों में है। इसी बीच भाजपा के मीडिया पैनलिस्ट विनोद शर्मा ने इस्तीफा दे दिया है।
शर्मा ने भाजपा छोड़ने की घोषणा राजधानी पटना में जगह-जगह होर्डिंग, पोस्टर और बैनर लगाकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं।
उन्होंने होर्डिंग में लिखवाया है कि मणिपुर की घटना पर अब तक प्रधानमंत्री ने बयान दिया है, न ही मणिपुर के मुख्यमंत्री को हटाने का काम किया गया है।

पटना के चौराहों पर लगे हैं पोस्टर
विनोद शर्मा के इस्तीफे से जुड़े पोस्टर पटना के चौराहों पर, पटना वीमेंस कॉलेज के सामने, राजद प्रदेश कार्यालय के बगल में, जदयू कार्यालय के सामने, विधानसभा गेट के सामने, पुराने सचिवालय के गेट के सामने, चिड़ियाखाना गेट नंबर 2 के सामने, विद्यापति भवन के सामने, गांधी मैदान जेपी गोलंबर के पास लगाए गए हैं।

पटना में लगवाया गया पोस्टर)
इन पोस्टरों में उनके इस्तीफे की बात के साथ मणिपुर की घटना के लिए पूरी तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मणिपुर के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह को जिम्मेदार बताया है।

पोस्टर पर लिखा-हो रही है आत्मग्लानी
विनोद शर्मा ने पोस्टरों पर लिखा है ‘माणिपुर में बेटियों को पूर्ण नग्न कर भीड़ द्वारा सड़कों पर घुमाने के कारण पूरे विश्व में भारत शर्मसार हुआ है। जिसके लिए मणिपुर के भाजपा के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह पूर्ण जिम्मेदार है। ऐसे नेतृत्व में काम करते हुए मुझे आत्मग्लानी और कलंकित महसूस कर रहा हूं। इसलिए तत्काल पार्टी के सभी पदों और पार्टी से इस्तीफा देता हूं। हालांकि, शर्मा यह संकेत नहीं दिया कि वे किस पार्टी की सदस्यता ग्रहण करेंगे।

उन्होंने पत्र में लिखा मणिपुर में भारतीय बेटियों को निर्वस्त्र कर जुलुस में सड़कों पर घुमाए जाने और मणीपुर के भाजपा मुख्यमंत्री की ओर से 80 दिनों तक कोई कार्रवाई नहीं करने और प्रधानमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री को बर्खास्त नहीं किए जाने, जिसके कारण पूरे विश्व में भारत का चेहरा शर्मासार हुआ।
मैं अपने सभी पदों और पार्टी से इस्तीफा देता हूं। मैं राष्ट्र प्रेम, बेटी बचाओ और भारतीय सनातन संस्कृति का झांसा देने वाली भाजपा में कार्य कर मैं अपने को कलंकित महसूस कर रहा हूं। अगर प्रधान मंत्री मोदी जी में थोड़ी सी इंसानियत होती तो तत्काल मुख्यमंत्री बिरेन सिंह को बर्खास्त कर देते या प्रधानमंत्री पद से खुद इस्तिफा दे देते।

Related posts

पश्चिम बंगाल और केंद्रीय कर्मचारियों के डीए में 36 प्रतिशत का अंतर

GIL TV News

बिहार दौरे पर चुनाव आयोग की टीम

GIL TV News

आदित्य ठाकरे का विस्फोटक दावा

GIL TV News

Leave a Comment